Laxmi Puja Vidhi

laxmi pujan
  1. पूजा की तैयारी (Preparation):
    • पूजा का समय और स्थान निर्धारित करें।
    • पूजा स्थल को साफ-सुथरा रखें।
    • लक्ष्मी मूर्ति, दिए, धूप, अगरबत्ती, कुमकुम, हल्दी, रोली, अखण्ड दिया, पूजा थाली, नैवेद्य (प्रसाद), सिक्के आदि का आयोजन करें।
  2. लक्ष्मी मूर्ति की स्थापना (Installation of Laxmi Idol):
    • लक्ष्मी मूर्ति को पूजा स्थल पर स्थापित करें।
  3. कलश स्थापना (Kalash Installation):
    • एक कलश में पानी भरें।
    • कलश पर कुमकुम और हल्दी का स्वस्तिक बनाएं।
    • कलश के ऊपर एक सुपारी, एक लौंग, एक सुपारी, एक इलायची, एक तुलसी के पत्ते, एक चम्मच राई, एक सिक्का और सुगंधित अख़ाता बंधें।
    • कलश को लक्ष्मी मूर्ति के सामने रखें।
  4. लक्ष्मी पूजा का समय (Laxmi Puja Timing):
    • पूजा का समय सूख्ष्म मुहूर्त में करें।
  5. पूजा का आरंभ (Beginning of Puja):
    • गणेशजी की पूजा के बाद, लक्ष्मी माता की पूजा का आरंभ करें।
  6. मंत्र (Mantras):
    • लक्ष्मी माता के मंत्रों का जप करें।
      • ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं सौं ॐ ह्रीं क्लीं ऐं सौं श्रीं।
      • लक्ष्मी माता आराधना के दौरान आप लक्ष्मी सहस्त्रनाम स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं।
  7. नैवेद्य (Offerings):
    • लक्ष्मी माता को फूल, दीप, नैवेद्य (मिठाई या फल), गंध, अक्षता, कुमकुम आदि के साथ आराधित करें।
  8. आरती (Aarti):
    • लक्ष्मी माता की आरती गाएं।
  9. प्रदक्षिणा (Circumambulation):
    • लक्ष्मी माता की मूर्ति के चारों ओर प्रदक्षिणा करें।
  10. दीपाराधना (Lighting of Lamps):
    • दीपावली के इस मौके पर दीपों को जलाएं।
  11. दक्षिणा (Offering Dakshina):
    • लक्ष्मी माता को सिक्के और दान के रूप में दक्षिणा दें।
  12. प्रार्थना (Prayer):
    • आप अपनी व्यक्तिगत प्रार्थनाएं करें और लक्ष्मी माता से आशीर्वाद मांगें।
  13. पूजा समाप्ति (Conclusion of Puja):
    • पूजा का समापन करें और प्रसाद बाँटें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *