Numerology

Numerology

परिचय अंकशास्त्र अंकों को मानव व्यवहार की कुंजी के रूप में उपयोग करता है। यह सीखने में आसान हैवह विधि जो मानव की गहराइयों को समझने के लिए मस्तिष्क की सहज क्षमता का प्रयोग करती हैव्यक्तित्व।अंकशास्त्रियों को अपनी पहचान भूलकर स्वयं को समर्पित करना होगापूरी तरह से दूसरों के व्यक्तित्व की खोज करना। उन्हें शांत…

Read More
goodluckastroservices.com

Sury Grah Dosh Nivaran Upay in Hindi

दान और सेवा: सूर्य के लिए दान देना और सेवा करना भी ग्रह दोष को कम करने में मदद कर सकता है। तांबे के बर्तन, गेहूँ, गुड़, सुर्य मंदिर में दान देना इनमें से कुछ हैं। रत्नों का धारण: सूर्य के लिए पुश्य रत्न यानी माणिक्य, रुबी या सूर्यमणि का धारण करना भी किया जा…

Read More
goodluckastroservices.com

Vivah kab hoga kaise pata kare

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, जन्म तिथि के आधार पर विवाह का समय निर्धारित किया जाता है. ज्योतिष शास्त्र में जन्मकुंडली के सप्तम भाव से विवाह का विचार किया जाता है. कुंडली के सप्तम भाव में मौजूद ग्रह और सप्तमेश पर किस ग्रह की दृष्टि बन रही है, उसके आधार पर विवाह का समय पता चलता…

Read More

व्यक्ति के नाखून देखकर जानें उसका स्वभाव

हाथ के नाख़ून हाथ के नाखूनों से जातक के स्वभाव की सौभाग्य का पता चलता है । अँगुलियों का प्रभाव भाग जितना  लम्बा हो, उसकी आधी लम्बाई नाखूनों की होना उत्तम माना गे है । यह आगे की और कुछ बड़े, पीछे की और कुछ छोटे होने चाहिए । अगर यह निर्मल तथा ललाई लिए…

Read More

नवग्रह को ठीक करने के लिए क्या करें ?

।।ग्रहों के आधार पर दिन, खान-पान, रहन-सहन ।। उत्तर भारत में नए वस्त्र या ज्जवाह्रत धारण करने के लिए बुधवार, शनिवार, शुक्रवार के दिन अच्छे माने जाते हैं । बुध-शनि शुक्र के मित्र हैं ।  इसी तरह अन्य कार्यों के लिए दिन नियत हैं । चन्द्र-दिन-सोमवार : यदि जातक का चन्द्र निर्वल हो तो सोमवार के…

Read More

कीरो हस्तरेखा हिन्दी में

दाहिना और बायां हाथ दाहिने और बाएं हाथ के अंतर को समझना भी हस्त परीक्षा में बहुत महत्वपूर्ण है । जो भी देखेगा वह विस्मय करेगा की एक ही व्यक्ति के दोनों हाथ एक-दूसरे से बिल्कुल विभिन्न होते हैं । यह भिन्नता अधिकतर रेखाओं के रूपों, उनकी स्थितियों तथा चिन्हों में होती है । हमने…

Read More

व्रत रखने के नियम व सावधानियाँ

।। व्रत के नियम ।। व्रत करने वाले व्यक्ति को क्रोध, लोभ, मोह, आलस्य, चोरी, इर्ष्या आदि नहीं करना चाहिए । व्रती को क्षमा, दया, दान, शौच, इन्द्रिय निग्रह देव पूजा, अग्नि होत्र और संतोष से काम करना उचित और आवश्यक है । व्रत के समय बार-बार जल पीने, दिन में सोने, तम्बाकू चवाने और…

Read More

दुर्गा चालीसा हिन्दी में

दुर्गा चालीसा हिन्दी में दुर्गा चालीसा हिन्दी में ।। दुर्गा चालीसा ।। नमो नमो दुर्गे सुख करनी । नमो नमो अम्बे दुःख हरनी ।। निरंकार है ज्योति तुम्हारी । तिहुं लोक फैली उजियारी ।। शशि ललाट मुख महा विशाला । नेत्र लाल भ्रकुटी विकराला ।। रूप मातु को अधिक सुहावे । दरश करत जन अति…

Read More

हनुमान चालीसा हिन्दी में

।। दोहा ।। श्री गुरु चरन सरोज रज निज मनु सुधारि । बरनऊ रघुवर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ।। बुद्धिहीन तनु जानिके सुमिरौं पवन-कुमार ।बल, बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार ।। ।। चौपाई ।। जय हनुमान ज्ञान गुन सागर । जय कपीस तिहूँ लोक उजागर ।। राम दूत अतुलित बल धामा ।…

Read More