Laxmi Puja

Laxmi ji ki puja vidhi

लक्ष्मी पूजा की सामग्री:

लक्ष्मी माता की मूर्ति

दीपक और घी

कुश ग्रास

गंध

अक्षत (अनिवार्य)

सुपारी, कुमकु

लक्ष्मी पूजा विधि:

  1. तैयारी: सबसे पहले आपको पूजा के लिए सारी सामग्री तैयार करनी होती है। इसमें पूजा की मूर्ति, दीपक, कुश ग्रास, गंध, अक्षत, सुपारी, कुमकुम, हल्दी, चावल, और मिश्री शामिल हो सकते हैं।
  2. पूजा स्थल की सजावट: पूजा स्थल को सजाने के लिए सजावट कीजिए, और एक विशेष चौकी या पूजा मंडप तैयार करें।
  3. लक्ष्मी मूर्ति की स्थापना: लक्ष्मी माता की मूर्ति को पूजा स्थल पर स्थापित करें।
  4. व्रत कथा पढ़ना: लक्ष्मी माता की कथा पढ़ें या सुनें। यह कथा आपको अपने मानसिक और आत्मिक भाग्य की बढ़ोतरी के लिए मार्गदर्शन करेगी।
  5. आरती: लक्ष्मी माता के सामने आरती उतारें और दीपक जलाएं।
  6. प्रासाद तैयार करें: व्रत के प्रासाद के रूप में मिश्री, सुपारी, और फल तैयार करें।
  7. पूजा का भोग: भगवान के सामने फल और प्रासाद रखें, और उन्हें अर्पित करें।
  8. आरती का प्रसाद वितरण: आरती के प्रसाद को सभी घरवालों को दें।
  9. व्रत का उपवास: आपको लक्ष्मी पूजा के दिन व्रत रखना चाहिए, और यह व्रत सूचना के अनुसार रखा जाता है।
  10. लक्ष्मी माता की आराधना: आपको पूजा स्थल पर बैठकर लक्ष्मी माता की आराधना करनी चाहिए और उनसे अपनी इच्छाएँ मांगनी चाहिए।
  11. व्रत तोड़ना: व्रत का तोड़ना सूचना के अनुसार करें और व्रती वस्त्र और आपके द्वाराकाण्ड को भगवान के प्रसाद के रूप में दें।

लक्ष्मी पूजा कथा (Vrat Katha):

लक्ष्मी पूजा के दिन, लक्ष्मी माता की कथा को पढ़ा जाता है। यह कथा भगवान विष्णु और गजेन्द्र के जीवन के एक घटना पर आधारित है, जिसमें लक्ष्मी माता की कृपा से विष्णु और गजेन्द्र की समस्या का समाधान होता है।

लक्ष्मी पूजा की सामग्री:

  1. लक्ष्मी माता की मूर्ति
  2. ग्रास
  3. गंध
  4. अक्षत (अनिवार्य)
  5. सुपारी, कुमकु