Home » Achla Ekadashi

Achla Ekadashi

achla ekadashi vrat katha

ज्येष्ठ मॉस की कृष्ण पक्ष की एकादशी को अचला एकादशी कहते है. इसे अपर एकादशी भी कहते है. इस व्रत के करने से ब्रह्महत्या, परनिंदा, भुतयोनि जैसे निक्रष्ट कर्मों से छुटकारा मिल जाता है तथा कीर्ति, पुन्य एवं धन धान्य में अभी वृद्धि होती है.

कथा :-

प्राचीन कला में महीध्वज नामक धर्मात्मा राजा राज्य करता था. विधि की बिडम्बना देखिये कि उसी का छोटा भाई वज्रध्वज बड़ा ही क्रूर, अधर्मी तथा अन्यायी था. वह अपने बड़े भाई को अपना बैरी समझता था.

उसने एक दिन अवसर पाकर अपने बड़े भाई राजा महीध्वज की हत्या कर दी और उसके मृत शारीर को जंगल में पीपल के वृक्ष के निचे गाड दिया.

राजा की आत्मा पीपल के वृक्ष पर वास करने लगी और बहाँ आने जाने वालों को सताने लगी. अकस्मात एक दिन धौम्य ऋषि उधर से निकले. उन्होंने तपोबल से प्रेत के उत्पात का कारण तथा उसके जीवन वृतांत को समझ लिया.

ऋषि महोदय ने प्रसन्न होकर प्रेत को पीपल के वृक्ष से उतर कर परलोक विद्या का उपदेश दिया अंत में ऋषि ने प्रेत योनि से मुक्ति पाने के लिए अचला एकादशी व्रत करने को कहा अचला एकादशी व्रत करने से राजा दिव्य शरीर धारण कर स्वर्ग लोक को चला गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.