टैरो

 

टैरो कार्डों की रहस्यमयी दुनिया और भविष्य आकलन की सर्वप्रिय विधा. इस शब्द की उत्पत्ति भी रहस्यमय है. टैरो सिर्फ शब्द ही नहीं, भविष्य और जीवन है. कुछ मानते हैं यह टैरोची शब्द से उत्पन्न हुआ, जो माइनर आर्काना के कार्डों से संबंधित था, तो कुछ इसकी उत्पत्ति टैरोटी से मानते हैं क्रास लाइन जो कि कार्डों के पीछे दिखती है.

टैरो कार्ड रीडिंग की शुरुआत यूरोप से हुई या मिस्र से, इसका कोई ठोस सबूत नहीं हैं. लेकिन बात करें इतिहास की तो मिडिल-ऐज से प्रचलित है टैरो कार्ड रीडिंग, जिसमें कार्ड देखकर भविष्य देखा जा सकता है.

टैरो कार्ड एस्ट्रोलॉजी में 78 कार्ड्स होते हैं. सभी कार्ड्स पर अलग-अलग तस्वीर होती हैं, जिसे देखकर भविष्य के बारे में बताया जा सकता है. इसमें हर एक कार्ड का मतलब अलग होता हैं. बात करें टैरो ज्योतिष की तो इसमें भी आम कार्ड की ही तरह 4 सूट होते हैं, जिसमें से 22 कार्ड मेजर अरकाना होता हैं और बाकी 56 माइनर अरकाना. सभी कार्ड पर कोई न कोई फोटो जरुर होती हैं. हर कार्ड की अलग अलग भविष्यवाणी होती हैं.

यहां से शुरू हुई टैरो कार्ड रीडिंग

टैरो कार्ड एस्ट्रोलॉजी को इजिप्टियन साइंस भी कहा जाता हैं. जिससे वहां के लोग प्राचीन काल से प्रयोग करते आ रहे हैं. इसमें व्यक्ति पहले सवाल पूछता है और फिर उसें एक कार्ड उठाना होता हैं. जिसे देखकर टैरो कार्ड रीडर उसका भविष्य बताता है.

टैरो कार्ड के बारे में रोचक जानकारी

टैरो कार्ड एस्ट्रोलॉजी में 78 में से 22 मेजर अरकाना होते हैं और बाकी 56 माइनर अरकाना, मेजर अरकाना में ज़िन्दगी के अहम पहलु होते हैं.
माइनर अरकाना में स्वोर्ड्स, कप्स, वंड्स और पेंतिकैल्स होते हैं. यही उनके सुइट्स होते हैं मेजर अरकाना कार्ड की कुल संख्या 22 होती हैं जो 0 से शुरू होती हैं.

अपना भविष्य जानने के लिए इस तरह चुने कार्ड
सबसे पहले आप जो भी प्रश्न पूछना चाहते हैं. उसे एक बार अपने मन में अच्छी तरह से दोहरा लें या आप प्रश्न को किसी पेपर पर लिख लें. इसके बाद “कार्ड चुने” एक के बाद एक कर तीन कार्ड इस पैक से चुने. पहला कार्ड आपके प्रश्न पूछते समय की मनःस्थिति को दर्शाता है. दूसरा कार्ड आपको आपकी इच्छाओं की पूर्ति के लिए जो प्रयत्न करने होंगे, उन्हें बताता है. तीसरा और अंतिम कार्ड आपको परिणामस्वरूप आपके प्रश्न का उत्तर देता है.