Lakshmi ji ki aarti

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता तुम को निष् दिन सेवत , हर विष्णु धाता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

ब्रह्मानी रुद्रानी , कमला जगमाता सूर्य चंद्रमा ध्यावत , नारद ऋषि गाता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

दुर्गारूप निरंजनि , सुख सम्पति दाता जो कोई तुमको ध्यावत , ऋद्धि-सिद्धि धन पाटा ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

तू पाताल वसन्ति , तू ही शुभदाता कर्मप्रभाव-प्रकाशक भवनिधि की त्राता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

जिस घर तुम रहती हो , सद्गुण वहां आता सब संभव हो जाता , मन नहीं घवराता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

तुम बिन यज्ञ न होवे , वस्त्र न होय रता खान पानको वैभव , तुम बिन को दाता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

शुभ गुण सुंदर युक्ता क्षीरनिधजाता रत्न चतुर्दश तुम बिन कोई समता ही पाता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

लक्ष्मी जी की आरती जो कोई नर गाता उर आनन्द समातो पाप उतर जाता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

स्थिर चर जगत बचाबे कर्म प्रेरल्याता राम प्रताप मैयाकी शुभ द्रष्टि चाहता ।।

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता

बोलो लक्ष्मी माता की जय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *