पितृऋण एवं ऋणमुक्ति के हक़दार

जब जातक पर उसके पूर्वजों के पापों का गुप्त प्रभाव पड़ता है तब ‘ पितर ‘ या ‘ पितृऋण ‘ कहा जाता है। इस सन्दर्भ में गुनाह कोई करे और उसकी सजा दूसरा भुगते वाली बात होती है। सजा भोगने वाला गुनाह करने वाले का नजदीकी रिश्तेदार ही होता है। यह ऋण रहस्यमय है। इसका Read more about पितृऋण एवं ऋणमुक्ति के हक़दार[…]

मंत्र जप

मंत्र जप विधि

आज हम अपने साधकों को मन्त्र जप की सही विधि बताएँगे जिससे की साधक किसी भी मंत्र का जप सही विधि से करें और उसका फल प्राप्त करें . जैसा की हम सभी जानते हैं की कई प्रकार के मंत्र होते हैं और उनके देवता भी अलग-अलग होते हैं इसी तरह से हर मंत्र की Read more about मंत्र जप विधि[…]

Maa Lakshmi ji

Lakshmi ji ki aarti

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । तुम को निष् दिन सेवत , हर विष्णु धाता ।। ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । ब्रह्मानी रुद्रानी , कमला जगमाता । सूर्य चंद्रमा ध्यावत , नारद ऋषि गाता ।। ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । दुर्गारूप निरंजनि , सुख Read more about Lakshmi ji ki aarti[…]

hanuman jaynti

हनुमान जयंती (चैत्र पूर्णिमा )

वैसे तो प्रत्येक मॉस की पूर्णिमा तिथि पवित्र मानी जाती है। इस दिन स्त्री, पुरुष, बाल, वृद्ध पवित्र नदियों में स्नान कर अपने को पवित्र बनाते हैं। इस दिन घरों में स्त्रियाँ भगवान लक्ष्मी नारायण को परसन्न करने के लिए व्रत रखती हैं और प्रभु सत्यनारायण की कथा सुनती हैं। चैत्र शुक्ल  की पूर्णिमा को Read more about हनुमान जयंती (चैत्र पूर्णिमा )[…]

kamda ekadshi vrat

कामदा एकादशी

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी कहते हैं।  कथा :- प्राचीन समय में पुंडरिक नमक एक रजा नागलोक में राज्य करता था। उसका दरबार किन्नरों व् गन्धर्वों से भरा रहता था। एक दिन गन्धर्व ललित दरबार में गान कर रहा था की अचानक उसे अपनी पत्नी की याद आ गई। इससे Read more about कामदा एकादशी[…]