हस्त सामुद्रिक

भविष्य जानने की जिज्ञासा मानव में आदि काल से रही है । हस्त रेखाओं के माध्यम से भविष्य सम्बन्धी ज्ञान हो सकता है । ऐसा धीरे – धीरे मानव को पता चल और इस तरह प्राचीन काल में ‘हस्त सामुद्रिक’ अथवा हस्त रेखा विज्ञानं का विकास हुआ । पामिस्ट्री अथवा हस्त रेखा विज्ञानं एक ऐसी Read more about हस्त सामुद्रिक[…]

पितृऋण एवं ऋणमुक्ति के हक़दार

जब जातक पर उसके पूर्वजों के पापों का गुप्त प्रभाव पड़ता है तब ‘ पितर ‘ या ‘ पितृऋण ‘ कहा जाता है। इस सन्दर्भ में गुनाह कोई करे और उसकी सजा दूसरा भुगते वाली बात होती है। सजा भोगने वाला गुनाह करने वाले का नजदीकी रिश्तेदार ही होता है। यह ऋण रहस्यमय है। इसका Read more about पितृऋण एवं ऋणमुक्ति के हक़दार[…]

मंत्र जप

मंत्र जप विधि

आज हम अपने साधकों को मन्त्र जप की सही विधि बताएँगे जिससे की साधक किसी भी मंत्र का जप सही विधि से करें और उसका फल प्राप्त करें . जैसा की हम सभी जानते हैं की कई प्रकार के मंत्र होते हैं और उनके देवता भी अलग-अलग होते हैं इसी तरह से हर मंत्र की Read more about मंत्र जप विधि[…]

Maa Lakshmi ji

Lakshmi ji ki aarti

ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । तुम को निष् दिन सेवत , हर विष्णु धाता ।। ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । ब्रह्मानी रुद्रानी , कमला जगमाता । सूर्य चंद्रमा ध्यावत , नारद ऋषि गाता ।। ॐ जयलक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता । दुर्गारूप निरंजनि , सुख Read more about Lakshmi ji ki aarti[…]

satyanarayan bhagwan ji

Aarti satynarayan bhagwan ki

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । सत्यनारायण स्वामी, जन-पातक-हरणा ।। जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । रत्न जडित सिंहासन, अद्भुत छवि राजे । नारद करत निरंतर घंटा ध्वनि बाजे ।। जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । प्रकट भये कलिकारन, द्विज को दरश दियो । बूढों ब्राह्मण बनकर, कंचन महल Read more about Aarti satynarayan bhagwan ki[…]