Posted in Uncategorized

GRAH CHAKRA

अनिष्ट ग्रहों के कुछ अक्सीर उपाय (सभी उपाय किसी जानकार की निगरानी में ही करें ) निम्न विशेष अद्सिर उपाय करने से तुरंत अनुकूल फल…

Continue Reading
Posted in Uncategorized

अशुभ गृह होने पर उसके लक्ष्ण

जब कोई गृह अशुभ होता है तो उसके फल के संकेत तथा लक्ष्ण जातक के जीवन में पाए जाते हैं । इन लक्षणों के अध्ययन…

Continue Reading
Posted in Uncategorized

What to do ? what not to do ? क्या करें ? क्या ना करें ?

क्या करें और क्या ना करें , यह सवाल सभी के मन में चलता रहता है । पूजा सभी करते है जैसी आती है वैसी…

Continue Reading
Posted in Uncategorized

Mount palm reading

ज्योतिष में हस्त रेखा देखना सीखने के लिए हथेली में दिए गए पर्वतों का ज्ञान होना अति आवश्यक है । जिससे कि व्यक्ति के ग्रहों…

Continue Reading
Dreams
Posted in ज्योतिष

Dreams

स्वप्न फल -3 अ, आ आग देखना जो व्यक्ति जलती हुई आग दे शोले देखे उसे बहुत खुश होना चाहिए, अगर ख्वाव में आग का…

Continue Reading
vastu-tips
Posted in Uncategorized

Vastu tips

वास्तु का ग्रहों से सम्बन्ध : जिस प्रकार ग्रहों की स्थिति अनुकूल अथवा प्रतिकूल होने पर मानव सुख या दुःख का भोग करता है उसी…

Continue Reading
Woman body marks
Posted in ज्योतिष

Woman Body Marks

(सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार) विशेष तथ्य (स्त्रियों के लिए) :- लम्बी और काली पुतली लिए जिस स्त्री की आँख हो, वह श्रेष्ठ होती है ।…

Continue Reading
Posted in Uncategorized

अंग फडकने का फल

स्त्री का बांया और पुरुष का दाहिना अंग फडकना शुभ कहा गया है । सिर फडकने से भूमि लाभ होता है । ललाट से स्थान…

Continue Reading
Posted in ज्योतिष

Thumb print 2

अंगूठे पर कुछ अन्य-चिन्ह व् उनका फल अब हम अंगूठे पर अंकित कुछ और चिन्हों का फलाफल निकलते हैं । अंगूठे के प्रथम-खण्ड यानि नाख़ून…

Continue Reading
thumb
Posted in Uncategorized

Thumb print

अंगूठे की पहिचान धयान पूर्वक देखें तो अंगूठे में तीन भाग प्रतीत होते है । पहला वह भाग कहलाता है जो नाख़ून से चिपका हुआ…

Continue Reading
Posted in ज्योतिष

kaal sarp yog

(2-) कुलिक कालसर्प योग –केतु तीसरे व् राहू आठवें भाव में हो तो कुलिक कालसर्प योग होता है । परिणाम – जातक की स्त्री कुरूप,…

Continue Reading
Posted in ज्योतिष

10 Tips for Success

सफलता के मूल मंत्र सुबह-सुबह 5 बजे से 7 बजे तक जग के स्नान करके पूजा करने से देवपूजा होती है । इसके बाद भोजन…

Continue Reading
Posted in ज्योतिष

KAAL SARP YOG

काल सर्प योगों के प्रकार एवं उनके परिणाम प्राचीन विद्वानों ने 12 प्रकार के काल सर्प योगों का विश्लेषण किया है । जिनके परिणाम निम्नलिखित…

Continue Reading
Posted in नियम विधि

Mantra

मंत्र वर्ण भेद से मन्त्रों की संज्ञा भगवन शंकर ने रावण को बताया मन्त्रों का विवरण…   भगवन शंकर उवाच :- हे रावण ! सुनो…

Continue Reading