शुभ शकुन

1. यदि आप किसी कार्य से जा रहे हैं तो आपके सामने सुहागन स्त्री अथवा गाय आ जाए तो कार्य में सफलता मिलती है।

2. जाते समय आप कपड़े पहन रहे हैं और जेब से पैसे गिरें तो धन प्राप्ति का संकेत है। कपड़े उतारते समय भी ऐसा हो तो शुभ होता है।

3. यदि आपके यहाँ सोकर उठते से ही कोई भिखारी माँगने आ जाए तो ये समझना चाहिए आपके द्वारा दिया गया पैसा (उधार) बिना माँगे वापस आ जाएगा।

4. आप सोकर उठे हों उसी समय नेवला आपको दिख जाए तो गुप्त धन मिलने की संभावना रहती है।

5. आप किसी कार्य से जा रहे हों, तब आपके सामने कोई भी व्यक्ति गुड़ ले जाता हुआ दिखे तो आशा से अधिक लाभ होता है।

6. लड़की के लिए आप वर तलाश करने जा रहे हों। तब घर से निकलते समय चार कुँवारी लड़कियाँ बातचीत करते मिल जाएँ तो शुभ योग होता है।

7. यदि शरीर पर चिड़िया गंदगी कर दे तो आपने समझना चाहिए आपकी दरिद्रता दूर होने वाली है। ये शुभ शकुन हैं, इसी प्रकार अपशकुन भी होते हैं। जानिए।

अशुभ अपशकुन

1. कार्य पर जाते समय यदि बिल्ली रास्ता काट जाए तो कार्य असफल होने की आशंका रहती है। आप घर वापस आकर या थोड़ा विश्राम कर आगे जाएँ। तब कार्य सफल होगा।

2. कार्य पर जाते समय कोई दुष्ट प्रकृति वाला, व्यभिचारी अथवा अन्यायी, व्यभिचारिणी सामने आ जाए तो कार्य सफल नहीं होता।

3. शुभ कार्य के लिए विचार चल रहा हो तब यदि छिपकली की आवाज सुनाई दे तो कार्य असफल होता है।

4. घर में किसी देवता की मूर्ति अथवा चित्र टूट जाए तो मृत्यु या मृत्यु समान कष्ट हो सकता है। निवारण के लिए क्षमा-याचना अथवा दुर्गा माँ की आराधना करें।

5. यदि आपको आकाश में तारे टूटते दिखाई दें तो स्वास्थ्‍य खराब होने की सूचना होती है। इसी के साथ नौकरी में खतरा एवं आर्थिक तंगी आने लगती है।

6. आपके घर उल्लू के चिल्लाने की आवाज आ रही हो तो भूत बाधा का डर रहता है अथवा ऊपरी बाधा से ग्रसित हो सकते हैं, विशेषकर स्त्री।

7. कुत्ते का रोना अथवा सियार के रोने से रिश्तेदार, पड़ोसी या मोहल्ले में कष्ट (मृत्यु) की संभावना रहती है।

विशेष : घर में उल्लू गिरे तो मानहानि, आयुहानि होती है। इसकी शांति के लिए यज्ञ-पूजन अथवा जाप करना चाहिए। जंगली कबूतर नहीं पालें, अशुभ माना गया है।

कुछ सूक्ष्म उपाय

  1. कबूतर की बीट एवं लोभान दोनों को कंडे पर जलाकर पूरे घर में धुआँ करें, सुबह-शाम अथवा रविवार, बुधवार घर में शांति मिलेगी।
  • घर का मुखिया रात्रि में चौराहे पर बाटी (आटे से गोल लड्‍डूनुमा) बनाए, बाटी सिर्फ पाँच बनाए। फिर उसका क्षेत्रपाल देवता के नाम से उसी स्थान पर कोण लगाकर रास्ता बदलकर घर आए। घर में पूर्ण शांति मिलेगी। यह कार्य चौदस, रविवार, अथवा अमावस्या पर करें तो विशेष लाभ मिलेगा। घर में शांति व् खुशहाली का माहौल बना रहेगा ।
  • घर का मुखिया घर के प्रत्येक सदस्य को साथ बिठा कर प्रत्येक सोमवार को माँ दुर्गा का हवन करें तो बहुत लाभ होगा ।

उपरोक्त शुभ-अशुभ शकुन का भारतीय परंपरा एवं संस्क्रति में बड़ा महत्व माना गया है। इन छोटे उपायों से आप लाभ ले सकते हैं।

Author:

Leave a Reply